April 18, 2021

Tej Times News

Satyam Sarvada

मध्यप्रदेश : क्या वैक्सिनेशन से बचना चाहते हैं कई स्वास्थ्य कर्मी, बनाई गई गलत सूची

नाम न बताने की शर्त पर एक वैक्सिनेशन अधिकारी ने बताया कि कई लोग वैक्सिनेशन से कतरा रहे हैं।

टीकाकरण अधिकारी के अनुसार नगर निगम के 1157 कर्मचारियों और अधिकारियों के नाम की सूची थी, जिनको कोरोना की वैक्सीन लगाई जानी थी, लेकिन जो लिस्ट भोपाल से भेजी गई थी उस लिस्ट में सभी कर्मचारियों के नाम के आगे एक ही फोन नंबर लिखा हुआ था।

नाम न बताने की शर्त पर एक वैक्सिनेशन अधिकारी ने बताया कि कई लोग वैक्सिनेशन से कतरा रहे हैं।

इसके चलते नगर निगम के कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन का टीका नहीं लग पाया। कोरोना वैक्सीन लगवाने को लेकर जो लापरवाही इस बार नगर निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों ने दिखाई है, उससे भोपाल तक मुरैना नगर निगम को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। कर्मचारियों की सूची तैयार करते समय 1157 लोगों के नाम के सामने केवल 5 मोबाइल नंबर ही बार-बार लिखे गए हैं। इससे साफ जाहिर है कि कोरोना वैक्सीन को लेकर मुरैना नगर निगम के कर्मचारी और अधिकारी सजग नहीं दिखाई दे रहे हैं।

जिला अस्पताल के वैक्सीनेशन सेंटर पर बुधवार से नगर निगम के 1157 कर्मचारी और अधिकारियों को कोरोना वैक्सीन का टीका लगना था, जिसके लिए नगर निगम प्रशासन ने सोमवार की देर शाम 1100 से अधिक अधिकारी और कर्मचारियों की सूची स्वास्थ्य विभाग को सौंप दी थी, लेकिन इन लिस्ट में 1157 अधिकारी कर्मचारियों के नाम के आगे डाले गए मोबाइल नंबर गलत थे,

सूची में 5 मोबाइल नंबरों को ही बदल-बदल कर 1157 अधिकारी और कर्मचारियों के नाम के आगे दर्ज किया गया था। इस लापरवाही के पकड़ में आते ही स्वास्थ्य विभाग ने सूची नगर निगम को वापस लौटा दी, और सभी के नंबर सही होने पर ही वैक्सीनेशन होने की बात कही।

बता दें कि ग्वालियर जिले में भी वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में अधिकारियों की लापरवाही देखने को मिली थी. जयारोग्य अस्पताल के 7 बूथों पर 940 वर्करों में से बीते सोमवार को कोरोना का टीका नहीं लग पाया था। वहां भी स्वास्थ्य विभाग के पास जो लिस्ट पहुंची थी उसमें सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स का मोबाइल नंबर एक ही लिखा था। इस कारण न तो उनके पास कोई मैसेज आया और ना ही वेरिफिकेशन के समय नंबर मिल पाए। इससे जाहिर होता है कि मध्य प्रदेश में अधिकारी वैक्सीनेशन को लेकर कितने गंभीर हैं।